Hindi Poetry-उलटी गिनती की पुरानी आदत No ratings yet.

Rating: 5 out of 5.
  • Hindi Poetry- उलटी गिनती की पुरानी आदत
  • Hindi Poetry- उलटी गिनती की पुरानी आदत
  • author profile- Contributor- Incidental Short Stories

Read उलटी गिनती की पुरानी आदत- Hindi Poetry on Incidental Short Stories. This poem is written by Ms. Manju Bose who is a contributor in Incidental Short Stories. We have recently started this new section for people who love reading Hindi poems.

Hindi Poetry- उलटी गिनती की पुरानी आदत

उलटी गिनती की पुरानी आदत-Hindi Poetry

नौ, आठ , सात, छे…

यूँ ही,

कुछ बेखयाली में,

दिन गिनने की आदत सी हो गई है मुझे।

साँसों को गिन गिन कर,

उनकी लम्बाई नापति रहती हूँ ।

आधे नींद में,

 धड़कनो की आहट से चौंक कर जाग जाती हूँ ,

और सोये हुये नक्षत्रो से, उनके हाल पूछती रहती हूँ । 

 Poetry- उलटी गिनती की पुरानी आदत

मौसम के हाथ पीले हो चुके,

अब वह इधर को नहीं आएगी ।

मुट्ठी से फिसलती हुई लम्हो की कडियां,

तितली के पंखों की तरह उँगलियों को रंगती हुई ,

टूटे हुए सपनो में समा जायेगी ।

फिर भी ,

नियमित उगते हुए सूरज की तरह,

अपनी आदत से मजबूर,

मैं निरंतर गिनती रहती हूं,

पाँच, चार, तीन, दो ….!!!

Written By- Ms. Manju Bose

You can now read our quotes on Pinterest. We would love to connect with you on Facebook, and Twitter. The links have been provided for your convenience.

Incidental Short Stories is a reader’s delight. If you love to read short stories, watch audiovisual series, and funny sarcastic cartoon series you have landed in the right place. Check out our sections and don’t forget to leave your feedback.

Please take a minute to rate our site

Leave a Reply